ये पोस्ट उन बच्चियों को समर्पित हैै जिन्हे उनके मॉ बाप केवल इस लिए त्याग देते हैं क्योंकि वो बेटा नहीं बेटी है़.....

सर -ए-राह लाकर उसे अपनों ने ही छोड़ा था वो मासूम सी गुरिया अकेली बिलख रही थी धोखा दिया अपना कर जो पकड़ा था उसका हाथ वो बनकर कोठे की रौनक बढ़ती रही उम्र के साथ ग़म की स्याह रात से घबरा रही थी वो बेटी होने का क़र्ज़ बार-बार चुका रही थी वो पहले छला…Read More

Save Her.

Deep

आओ सब मिलकर एक दीप जलाएं वहाँ, सबसे ज्यादा अँधेरा हो जहां|

KAVITA

Please save her. प्रिय मित्रो बच्चों के साथ होने वाले यौन उत्पीडन के मुद्दे को ले कर मौर्या अनीता जी की समर्पित कविता का स्वागत करे ताकि ग़ज़लों की भीड़ में कविता भी साँस ले सके । परी इक चंचल नदी थी वो.. 'सुन्दर' जैसे 'परी' थी वो, खिलती हुई कली थी…Read More

क्या क्या खोअगे|

क्या क्या तुम खोओगे ???? by Garima Sharma on Friday, September 28, 2012 at 1:14am · जिससे सीखा जमाने ने मुस्कुराना आज नहीं भाता उसी का मुस्कुराना सोचो ये कि जो छीन लिया उसका मुस्कुराना तो बेटे कहाँ से सीखेंगे इतना प्यारा मुस्कुराना विनती है एक माँ की , एक…Read More

beti

Kamal Taru मत रोको उसे पढने दो, मत बाँधो उसे बढने दो, पत्नी होगी, माँ भी होगी,. उसका जीवन तो गढने दो! मत खीचों उसे चढने दो, मत थामो उसे गिरने दो, आसमानों को छू भी लेगी, कुछ उसको भी उड लेने दो! मत टोको उसे हँसने दो, मत छेडो उसे रोने दो, सबका तो वो सुन ही…Read More

beti

Kamal Taru मत रोको उसे पढने दो, मत बाँधो उसे बढने दो, पत्नी होगी, माँ भी होगी,. उसका जीवन तो गढने दो! मत खीचों उसे चढने दो, मत थामो उसे गिरने दो, आसमानों को छू भी लेगी, कुछ उसको भी उड लेने दो! मत टोको उसे हँसने दो, मत छेडो उसे रोने दो, सबका तो वो सुन ही…Read More
See more

6 comments

to comment