join the cause

join the cause to strenthen our aim of promoting the language along withthe art &culture your every comment and support will b highly appreciated UPDATE #1 संवसे भोजपुरिया समाज के ईद के पावन तेवहार प अउलाह बधाई आ अनघा शुभकामना बडुवे ।

काहे जरुरी बा भोजपुरी के मान्यता

मातृभाषाएं सिर्फ मौखिक भाषाएं बनकर रह गई हैं और अब जबकि मौखिक स्तर पर भी इन भाषाओं का कम इस्तेमाल हो रहा है तो जाहिर है कि विलुप्त होने की तरफ बढ़ेंगे ही। जबकि मातृभाषाएं भाषाई पर्यावरण के लिए जैव विविधता सरीखी हैं । यह बात नहीं भूलनी चाहिए कि भाषा का विकास…Read More

2 comments

to comment